Data क्या है और कितने प्रकार होते है




Hello Friends Tutorialsroot मे आपका स्वागत है आज हम आपको इस Post में Data के बारे में बताने जा रहे है जिसमे आपको Data के बारे में सीखने को मिलेगा हमे आशा है की पिछली बार की तरह इस बार भी आप हमारी Post को पसंद करेंगे. बहुत कम लोग ही जानते होंगे की Data क्या है अगर आप इसके बारे में नही जानते तो कोई बात नहीं हम आपको इसके बारे में पूरी तरह से जानकारी देंगे इसके लिए हमारी Post को शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े.

Data क्या है - What is Data in Hindi

Data शब्‍द आपने हजारों बार सुना होगा, इसका उपयोग कई जगहों पर किया जाता है. आज कल तो कई जॉब्स में भी Data Entry ऑपरेटर की Post भी होती है. Data असल में किसी भी Material को कह सकते है. जिसका उपयोग किसी Information को तैयार करने में किया जा सके. यह Material किसी भी रूप में हो सकते है जैसे कि Photo, Video, Text, Statistics Group आदि जिसके उपयोग से आप किसी भी Result पर Access कर सके.

उदाहरण के लिए – अगर हमे किसी City के Educated Unemployed लोगों की जानकारी तैयार करनी हो तो हमें निम्न Material अर्थात Data को Collect करना होगा. 1- नाम , 2- पिता का नाम, 3- पता, 4- उम्र, 5- शैक्षिक योग्‍यता आदि. जब पूरे City का Data Collect हो जायेगा तो उससे यह जानकारी बडी आसानी से तैयार हो जायेगी.

Types of Data

DATA मुख्यतः दो प्रकार के होते है -

  • Numeric Data

  • Alpha Numeric Data

Numeric Data

यह Data Digit से बना होता है इसमें 0,1,2.....9 तक Digits का प्रयोग किया जाता है. इस तरह के Data का प्रयोग Mathematical Operations जैसे - जोड़ना और घटाने के लिये किया जाता है. इसमें Digits के साथ दशमलव (.) ,(+),एवं (-) चिन्हों का प्रयोग भी किया जाता है उदाहरण के लिये किसी Class के Students के Marks या किसी Office के Employees की Salary का Data.

Alpha Numeric Data

इसमें Numeric Data के साथ अक्षराेें और चिन्हों (@, #, $, %) का भी प्रयोग किया जाता है. इसमें Mathematical Operations नहीं की जा सकती है पर इनकी आपस मेें तुलना की जा सकती है. इसमें जैसे Population का Data, Office के Employees का Name, Designation, Address इत्‍यादि का Data होता है.

Database क्या है

Database Inter Related Data का Collection होता है जिसका उपयोग Data को कुशलतापूर्वक पुनर्प्राप्त करने डालने और हटाने के लिए किया जाता है. इसका उपयोग Table, Schema, Views और Reports आदि के रूप में Data को Organize करने के लिए भी किया जाता है.

उदाहरण के लिए – College Database Organizes Staff, Students और Faculty आदि के बारे मे Data आयोजित करता है. Database का उपयोग करके आप जानकारी को आसानी से पुनर्प्राप्त, सम्मिलित और हटा सकते है.

Information क्या है

हमारे पास बहुत प्रकार के Data का Store होता है परन्तु वह सारा हमारे लिए हमेशा उपयोगी नहीं होता है. क्योंकि Data अलग अलग बिखरे हुए अव्यवस्थित तथ्य है जिनसे कोई निर्णय नहीं लिया तक सकता है. उदहारण लिए - किसी Class में पढ़ने वाले Boys की अलग अलग Ages हमारे लिए Data है परन्तु हमें उस Class की Average Age की जरुरत है. इस प्रकार उपयोगी Data को Computer के लिए Information कहा जा सकता है.

हम Data Store इसलिए करते करते है ताकि प्राप्त Data में से हम Information निकाल सके. इसके लिए हमें Data के ऊपर कुछ क्रियाएं करनी पड़ती है. जैसे Students की अलग - अलग Ages में से Average Age पता करने के लिए हम उन सब की Ages को जोड़ेंगे फिर सभी Students को Count करते है और अंत में Ages की योग में Students की संख्या या गिनती से भाग देंगे जिससे उनकी Average Age निकल जाएगी. अलग अलग Students Age हमारे लिए केवल Data है जबकि इसकी तुलना में Average Age हमारे लिये अधिक उपयोगी होती है इसलिए यह Information है.

Information की विशेषताएं

Processed Data को किसी भी फैसले के लिए अर्थपूर्ण होना आवश्यक होता है जिसके लिए निम्नलिखित विशेषताएं होनी चाहिए -

  • समय पर – जब आवश्यकता हो तो जानकारी उपलब्ध होनी चाहिए

  • सटीकता – जानकारी सही होनी चाहिए

  • पूर्णता – जानकारी पुरी होनी चाहिए

Data कैसे Store किया जाता है

Data Store बहुत ही ज़रूरी होता है ताकि ज़रूरत आने पर आप कभी भी उसका उपयोग कर सके. आज के समय में व्यापार बहुत बढ़ गया है इसलिए व्यापार की दुनिया मे Data को संभाल के रखना बहुत ही ज़रूरी है क्योंकि यह ज़रूरी जानकारी के रूप मे भी हो सकता है जैसे वहा काम करने वाले लोगो की Personal Information, Customer Information, Information your Business, Bank Information, Project Information और भी बहुत कुछ Data हो सकता है. इसलिए कुछ Tools का उपयोग करके ये सारा Data Store कर के रखा जा सकता है.

Types of Data Store in Hindi

  • Primary Storage

  • Secondary Storage

Primary Storage

अगर हम Primary Storage के बारे में बात करे तो उनकी Memory Temporary होती है या जिसे Voletile भी कहते है Primary Storage का मतलब Computer की Main Memory से है जिसमे Computer में Store Data को Fastly Access किया जा सकता है Primary Storage दो तरह की होती है Ram और Rom

Secondary Storage

यह Computer की Permanent Memory होती है जिसमे Data और Information Permanent रूप से Store रहता है. Secondary Storage Device को Auxiliary Storage Device भी कहा जाता है. इनमें Data रखने की Capicity अधिक होती है क्योंकि इनकी Storage Capacity अधिक होती है. यह Internal और External रूप से Data को Store करके रखते है जैसे- Hard Disk, Optical Disk Drive और Usb Storage Device आदि. इसमे Data की Storage को घटा-बढ़ा भी सकते है और इसमे Data Access करने की Speed Primary Storage से Slow होती है.

Computer Article in Hindi