GSM Full Form in Hindi




GSM Full Form in Hindi, GSM Ka Full Form Kya Hai, GSM का Full Form क्या है, GSM Ka Poora Naam Kya Hai, जी.एस.एम क्या है, GSM का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

GSM Full Form in Hindi जी.एस.एम क्या है

GSM की फुल फॉर्म Global System for Mobiles होती है. इसको हिंदी में वैश्विक मोबाइल संचार प्रणाली कहते है. यदि आप यूरोप या एशिया में हैं और मोबाइल फोन का उपयोग कर रहे हैं, तो संभवत आप अपने मोबाइल फोन में जीएसएम तकनीक का उपयोग कर रहे होंगे. यह एक डिजिटल सेलुलर तकनीक है जिसका उपयोग मोबाइल आवाज और डेटा सेवाओं को संचारित करने के लिए किया जाता है. 1970 के दशक की शुरुआत में GSM की अवधारणा बेल प्रयोगशालाओं में एक सेल-आधारित मोबाइल रेडियो प्रणाली से उभर के सामने आयी है.

GSM एक सामान्य यूरोपीय मोबाइल टेलीफोन मानक बनाने के लिए 1982 में स्थापित एक मानकीकरण समूह का नाम है. दूरसंचार में जीएसएम सबसे व्यापक रूप से स्वीकृत मानक है और इसे विश्व स्तर पर लागू किया जाता है

GSM एक सर्किट-स्विच्ड सिस्टम है जो प्रत्येक 200 kHz चैनल को आठ 25 kHz टाइम-स्लॉट में विभाजित करता है। जीएसएम मोबाइल संचार बैंड 900 मेगाहर्ट्ज और दुनिया के अधिकांश हिस्सों में 1800 मेगाहर्ट्ज पर काम करता है। यूएस में, जीएसएम 850 मेगाहर्ट्ज और 1900 मेगाहर्ट्ज बैंड में संचालित होता है. दुनिया के 70 प्रतिशत से अधिक डिजिटल सेल्युलर ग्राहकों की बाजार हिस्सेदारी जीएसएम है.

जीएसएम संकेतों को संचारित करने के लिए Time Division Multiple Access (TDMA) तकनीक का उपयोग करता है. जीएसएम को डिजिटल तकनीक का उपयोग करके विकसित किया गया था। इसमें 64 केबीपीएस से लेकर 120 एमबीपीएस डेटा दरों को ले जाने की क्षमता है.

वर्तमान में जीएसएम दुनिया भर में 210 से अधिक देशों में एक अरब से अधिक मोबाइल ग्राहकों का समर्थन करता है. जीएसएम रोमिंग सेवा सहित उन्नत आवाज और डेटा सेवाओं के लिए बुनियादी प्रदान करता है। रोमिंग एक अन्य जीएसएम नेटवर्क में आपके जीएसएम फोन नंबर का उपयोग करने की क्षमता है.

जीएसएम डेटा का डिजिटलीकरण और संपीड़ित करता है, फिर इसे एक चैनल के माध्यम से उपयोगकर्ता डेटा की दो अन्य धाराओं के साथ भेजता है, प्रत्येक अपने स्वयं के समय में.

जीएसएम क्यों?

आप नीचे जीएसएम की विशेषताएं को देख सकते हैं जो इसकी लोकप्रियता और व्यापक स्वीकृति के को दर्शाती हैं -

  • International Roaming

  • High-quality Speech

  • Support for new Services

  • Improved Spectrum Efficiency

  • Low-cost Mobile Sets and Base Stations (BSs)

जीएसएम के फीचर्स

  • GSM में Spectrum Efficiency को बहुत improve किया गया.

  • GSM के अंदर Short Message Service को भी Add किया गया.

  • GSM के अंदर Improved Voice Quality होती है.

  • Sim के Phonebook को Manage कर सकते है.

  • GSM कई New Services को Support भी करता है.

जीएसएम के फायदे

  • जीएसएम का पूरी दुनिया में व्यापक कवरेज है.

  • जीएसएम सेवा 200 से अधिक देशों में प्राप्त की जाती है, इसलिए यह दुनिया भर में अपने ग्राहकों के लिए घूमने के लिए दुनिया भर में रोमिंग प्रदान करता है.

  • जीएसएम अत्यंत सुरक्षित है क्योंकि इसके उपकरणों और सुविधाओं को आसानी से दोहराया नहीं जा सकता है.

  • जीएसएम Short Message, Caller Id, Call Hold, Call Forwarding आदि जैसी Advanced सुविधाएँ प्रदान करता है.

जीएसएम का इतिहास

जीएसएम के इतिहास के बारे में आप नीचे विस्तार से देख सकते है -

  • सन 1982 में यूरोपीय पोस्ट और टेलीग्राफ का सम्मेलन एक पैन-यूरोपीय सेलुलर मोबाइल प्रणाली के लिए मानकों को चौड़ा करने के लिए एक जीएसएम समूह स्थापित किया गया.

  • सन 1985 में समूह द्वारा उत्पन्न की जाने वाली सिफारिशों की एक सूची स्वीकार की गयी थी.

  • सन 1986 में वायु इंटरफेस के लिए अनुशंसित विभिन्न रेडियो तकनीकों की जांच के लिए निष्पादित क्षेत्र परीक्षण किया गया था.

  • सन 1987 में Time Division Multiple Access (TDMA) को एक्सेस पद्धति Frequency Division Multiple Access (FDMA) के साथ चुना गया था है. इसमें 12 देशों का प्रतिनिधित्व करने वाले दूरसंचार ऑपरेटरों द्वारा प्रारंभिक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गये थे.

  • सन 1988 में जीएसएम प्रणाली मान्य हो गयी थी.

  • सन 1989 में European Telecommunications Standards Institute (ETSI) को GSM विनिर्देशों की जिम्मेदारी दी गई थी.

  • सन 1990 में GSM विशिष्टताओं का चरण 1 दिया गया है.

  • सन 1991 में जीएसएम सेवा का वाणिज्यिक प्रक्षेपण होता है. DCS1800 विनिर्देशों को अंतिम रूप दिया गया है.

  • सन 1992 में जीएसएम समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वाले देशों के अलावा. कवरेज बड़े शहरों और हवाई अड्डों तक फैला गया था.

  • सन 1993 में मुख्य सड़कों का कवरेज जीएसएम सेवाओं यूरोप के बाहर शुरू हुआ था.

  • सन 1994 में डेटा ट्रांसमिशन क्षमताओं का शुभारंभ किया. 1994 के अंत तक 43 देशों में नेटवर्क की संख्या 69 हो गई थी.

  • सन 1995 में GSM विशिष्टताओं का चरण 2 होता है. इसमें कवरेज को ग्रामीण क्षेत्रों तक बढ़ाया गया था.

  • सन 1996 में इसमें 81 देशों में 133 नेटवर्क चालू किये गये थे.

  • सन 1997 में 109 देशों में 200 नेटवर्क, दुनिया भर में लगभग 44 मिलियन ग्राहक को इसमें जोड़ा गया.

  • सन 1999 में वायरलेस एप्लिकेशन प्रोटोकॉल (WAP) अस्तित्व में आया और इसको 260 मिलियन ग्राहकों के साथ 130 देशों में चालू किया गया था.

  • सन 2000 में General Packet Radio Service (GPRS) अस्तित्व में आया गया था.

  • सन 2001 मई 2001 तक, 550 मिलियन से अधिक लोग मोबाइल दूरसंचार के ग्राहक बन गये थे.


Related Full Form in Hindi