NPA Full Form in Hindi




NPA Full Form in Hindi, NPA का Full Form क्या है, NPA क्या होता है, एनपीए क्या है, NPA का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालो के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

NPA Full Form in Hindi - एनपीए क्या होता है

NPA की फुल फॉर्म Non-Performing Asset होती है. इसको हिंदी मे गैर निस्पंदकारी संपतियां कहते है. यह एक ऋण या अग्रिम को संदर्भित करता है जिसके लिए कम से कम 90 दिनों के लिए मूलधन या ब्याज का भुगतान नहीं किया जाता है अर्थात बैंक की संपत्ति ग्राहकों को दिए गए ऋण या अग्रिम जो प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं कोई वापसी नहीं करते हैं. नॉन परफॉर्मिंग एसेट या बैड लोन. यह बैंक द्वारा दिए गए Loan की वहा राशी जिस पर बैंक कोई लेनदेन नही कर सकता है. जब बैंक किसी व्यक्ति या Organization को जो Loan देती हे उस राशी पर न ब्याज प्राप्त हो और न बकाया राशी की क़िस्त प्राप्त हो तो बैंक एसे Loan को NPA (Non Performing Assets) गैर निस्पंदकारी संपतियां घोषित कर देता है. किसी भी Loan को NPA घोषित करने की एक समय अवधि होती है.

उदाहरण के लिए - उदाहरण के लिए मान लीजिये एक बैंक ने एक कंपनी को 20 लाख का ऋण दिया है, जिसमें प्रति माह केवल 10000 का ब्याज दिया जाता है. यदि कंपनी लगातार तीन महीनों के लिए भुगतान करने में विफल रहती है, तो बैंक को नियामक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इस ऋण को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति के रूप में वर्गीकृत करना होता है. NPA ऋणदाताओं पर ब्याज के गैर-भुगतान के रूप में बोझ डालता है या मूलधन ऋणदाता के लिए नकदी प्रवाह को कम करता है. यह बजट को बाधित करता है और कमाई घटाता है और बाद के ऋण प्रदान करने के लिए पूंजी को कम करता है.

रिजर्व बैंक ने NPA को तीन भागो मे बाटा हे इनके बारे मे आप नीचे विस्तार से देख सकते है.

  • Sub Standard Assets

  • Doubtful Assets

  • Lossful Assets

Sub Standard Assets

यह उन संपत्तियों को संदर्भित करता है जो एनपीए बने रहते हैं या 12 महीने से कम लेकिन 90 दिनों से अधिक की अवधि के लिए अतिदेय होते हैं. जब कोई Loan 12 Month या इस से कम समय के लिए NPA रहता हे तो इसे Sub Standard Assets कहते है. एसे Loan मे Security Fund की Market Value Loan की राशी से कम होती है इस मे बैंक को बकाया राशी के 15% तक प्रावधानीकरण करना होता है. Security Fund जमा नही होने पर 25% तक प्रावधानीकरण करना होता है.

Doubtful Assets

यह उन संपत्तियों को संदर्भित करता है जो 12 महीने से अधिक की अवधि के लिए बाकी हैं. जब कोई NPA 12 Month से अधिक समय के लिए NPA रहता है इसे Doubtful Assets कहते है. जब कोई NPA एक Year तक Doubtful Assets के रूप मे रहता है तो इसमे बैंक को बकाया राशी पर 25% तक प्रावधानीकरण करना होता है. जब कोई NPA तीन साल तक Doubtful Assets के रूप में रहता हे तो बकाया राशी पर 40% तक प्रावधानीकरण करना होत है और तीन साल से अधिक होने पर 100% प्रावधानीकरण करना होता है.

Lossful Assets

यह उन संपत्तियों को संदर्भित करता है जो संदिग्ध हैं और बैंक, आंतरिक या बाहरी लेखा परीक्षक और केंद्रीय बैंक निरीक्षकों द्वारा वसूली योग्य नहीं मानी जाती हैं.

NPA के लिए सामान्य कारण

NPA के कुछ सामान्य कारण आप नीचे देख सकते है -

  • Default - उधारकर्ताओं द्वारा गैर-भुगतान जैसे कि - डिफ़ॉल्ट.

  • Economic Conditions - प्राकृतिक आपदाओं, राजनीतिक कारणों या किसी अन्य कारण से प्रतिकूल आर्थिक स्थिति.

  • Bad Credit History - ऋण उधारकर्ताओं को प्रदान किया जाता है जिनके पास क्रेडिट इतिहास खराब है.

  • Negligence - कभी-कभी कर्जदार बैंक अधिकारियों को डिफॉल्ट के इरादे से लोन दिलाने के लिए रिश्वत देते हैं.

  • Diversion of Funds - उधार दस्तावेजों में उल्लिखित धन के बजाय अन्य उद्देश्यों के लिए उपयोग किया गया उधार धन. ऐसे कर्जदार आमतौर पर कर्ज चुकाने में नाकाम रहते हैं.


Related Full Form in Hindi