PKD Full Form in Hindi




PKD Full Form in Hindi, PKD का Full Form क्या है, PKD क्या होता है, पी. के. डी. क्या है, PKD का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालो के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

PKD Full Form in Hindi - पी. के. डी. क्या होता है

PKD की फुल फॉर्म Polycystic Kidney Disease होती है. इसको हिंदी में पॉलीसिस्टिक किडनी रोग कहते है. यह एक Genetic Disorder है जिसमें गुर्दे में कई अल्सर विकसित होते हैं. इस रोग में मुख्य असर किडनी पर होता है. इससे किडनी आकार में बढ़ जाती है और इसकी सतह ऊबड़-खाबड़ हो जाती है. दोनो किडनियों में बड़ी संख्या में Cysts पानी भरा बुलबुला जैसी रचना बन जाती है. Chronic Kidney Failure के मुख्य कारणो में एक कारण Polycystic Kidney Disease भी होता है. Kidney के अलावा कई मरीजो में ऐसी सिस्ट लीवर, तिल्ली, ऑतों और दिमाग की नली में भी दिखाई देती है. PKD किडनी की विफलता के प्रमुख कारणों में से एक है. किडनी के अलावा, अल्सर इस चिकित्सा स्थिति में भी यकृत या शरीर में कहीं और विकसित हो सकते हैं.

PKD Women Men और अलग-अलग जाती और देशो के सभी लोगो में एक जैसा होता है. यह रोग 1000 लोगो में से एक व्यक्ति में दिखाई देता है.

Kidney रोग के मरीज जिन्हें Dialysis या Kidney Transplant की आवश्यकता होती है उनमें से 5 % रोगियो में Polycystic Kidney Disease (PKD) नामक बीमारी पाई जाती है.

Polycystic Kidney Disease आमतौर पर अल्ट्रासाउंड इमेंजिंग, सीटी स्कैन या एमआरआई स्कैन द्वारा निदान किया जाता है. इसके उपचार में सहायक उपचार के माध्यम से दर्द का उपचार, और उच्च रक्तचाप और गुर्दे की क्षति का उपचार शामिल होता है.

PKD के सामान्य लक्षण

  • पेट का बढ़ना

  • पेट में दर्द होना

  • पेट में गाँठ का होना

  • किडनी में पथरी होना

  • पेशाब में खून का आना

  • खून के दबाव में वृध्दि होना

  • पेशाब में बार-बार संक्रमण होना

  • किडनी का कैंसर होने की संभावना में वृध्दि

PKD का मुख्य उपचार

  • PKD का मुख्य उपचार उच्च रक्तचाप को सदैव नियंत्रित रखना

  • PKD के रोगियों को समय-समय पर जाँच और निगरानी की सलाह दी जाती है

  • PKD के रोगियों को शरीर पर सूजन नहीं हो तो ऐसे मरीज को ज्यादा मात्रा में पानी पीना चाहिए

  • PKD के रोगियों को मूत्रमार्ग में संक्रमण और पथरी की तकलीफ होते ही तुरंत उचित उपचार कराना

  • PKD के रोगियों को पेट में होने वाले दर्द का उपचार किडनी को नुकसान नहीं पहुँचाने वाली विशेष दवाओं द्वारा ही किया जाना चाहिए

PKD के प्रकार

PKD दो अलग अलग आनुवंशिक दोषों के आधार पर दो प्रकार के हैं -

  • Autosomal Dominant Polycystic Kidney Disease (ADPKD)

  • Autosomal Recessive Polycystic Kidney Disease (ARPKD)

Autosomal Dominant Polycystic Kidney Disease (ADPKD)

ADPKD को वयस्क पॉलीसिस्टिक बीमारी के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह आमतौर पर 30 और 40 वर्ष की उम्र के बीच होता है. ADPKD में यदि किसी माता-पिता को यह बीमारी है, तो यह बीमारी बच्चों को हो सकती है. क्योंकि प्रत्येक बच्चे में इस बीमारी के होने की 50% संभावना होती है यदि माता या पिता में से कोई भी ADPKD है.

Autosomal Recessive Polycystic Kidney Disease (ARPKD)

ARPKD को किशोर पॉलीसिस्टिक किडनी रोग के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह आमतौर पर शिशुओं और छोटे बच्चों में होता है. ARPKD एक दुर्लभ Genetic Disorder है जो विकसित होता है यदि आपके माता-पिता में से प्रत्येक में रोग जीन की दोषपूर्ण प्रतिलिपि है. लेकिन अगर केवल एक माता-पिता में दोषपूर्ण जीन है, तो बच्चे को यह बीमारी नहीं होगी.


Related Full Form in Hindi