PTSD Full Form in Hindi




PTSD Full Form in Hindi, PTSD का Full Form क्या है, PTSD क्या होता है, पी. टी. एस. डी. क्या है, PTSD का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालो के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

PTSD Full Form in Hindi - पी. टी. एस. डी. क्या होता है

PTSD की फुल फॉर्म Post Traumatic Stress Disorder होती है. इसको हिंदी मे पश्च आघात तनाव विकार कहते है. PTSD एक मानसिक स्थिति है जो उन लोगों मे विकसित होती है जिन्होंने अनुभव किया है या एक दर्दनाक या भयानक घटना देखी है जैसे कि- प्राकृतिक आपदा, कार या विमान दुर्घटना, आतंकवादी हमला, किसी प्रियजन की अचानक मौत, अपहरण इत्यादि.

दर्दनाक स्थिति के दौरान और बाद में डर लगना स्वाभाविक है. भय खतरे से बचाव या इससे बचने में मदद करने के लिए शरीर में कई विभाजित दूसरे परिवर्तनों को ट्रिगर करता है. यह लड़ाई या उड़ान प्रतिक्रिया एक विशिष्ट प्रतिक्रिया है जो किसी व्यक्ति को नुकसान से बचाने के लिए होती है. लगभग सभी को आघात के बाद प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला का अनुभव होगा, फिर भी अधिकांश लोग स्वाभाविक रूप से प्रारंभिक लक्षणों से उबरते हैं. जो लोग समस्याओं का अनुभव करना जारी रखते हैं, उन्हें पीटीएसडी का निदान किया जा सकता है. जिन लोगों के पास PTSD है, वे तनाव या भयभीत महसूस कर सकते हैं, तब भी जब वे खतरे में न हों.

Post Traumatic Stress Disorder (PTSD) के उपचार मे दवाएं और मनोचिकित्सक Talk Therapy या दोनो शामिल है. किसी व्यक्ति को दर्दनाक घटना के कम से कम एक महीने के लिए लगातार लक्षणों का अनुभव करने के बाद PTSD का निदान की पुष्टि की जाती है.

PTSD के संकेत और लक्षण

प्रत्येक रोगग्रस्त व्यक्ति चल रहे पुरानी या अल्पकालिक तीव्र पीटीएसडी का विकास नहीं करते है. PTSD हर व्यक्ति के साथ कोई एक खतरनाक घटना के माध्यम से हो सकता है जैसे कि- प्राकृतिक आपदा, कार या विमान दुर्घटना, आतंकवादी हमला, किसी प्रियजन की अचानक मृत्यु, अप्रत्याशित मृत्यु की तरह, पीटीएसडी का कारण भी बन सकते हैं. इसके लक्षण आमतौर पर जल्दी शुरू होते हैं और यह दर्दनाक घटना के 3 महीने के भीतर शुरू होते हैं लेकिन कभी-कभी वे सालों बाद शुरू होते हैं. इसके लक्षण एक महीने से अधिक समय तक चलते रहते है. PTSD का कोर्स बदलता रहता है. कुछ लोग 6 महीने के भीतर ठीक हो जाते हैं, जबकि अन्य में कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जो लंबे समय तक चलते हैं.

एक डॉक्टर जिसे मानसिक रोगों से ग्रस्त लोगों की मदद करने का अनुभव है, जैसे कि मनोचिकित्सक या मनोवैज्ञानिक, पीटीएसडी का निदान कर सकते है. इस अव्यवस्था को Indicate करने वाले प्रमुख लक्षण चार श्रेणियो मे विभाजित किए गये है.

दर्दनाक घटना का फिर से अनुभव करना -

  • घटना के फ्लैशबैक और ख्वाब

  • घटना की यादो का परेशान करना

  • घटना की याद दिलाते समय परेशान होना

  • घटना की अनुस्मारक के लिए तीव्र शारीरिक प्रतिक्रिया जैसे तेजी से सांस लेने, पसीना आना

परहेज और सन्न हो जाना -

  • ज्यादातर कुछ काम या अन्य सामान्य गतिविधियों में रुचि खोना

  • ज्यादातर गतिविधियों, स्थानों और लोगों से बचना जो आघात को याद दिलाते हैं

  • ज्यादातर परिवार, दोस्तों से अलग महसूस करना और भावनात्मक रूप से सुन्न होना

हाइपरसोरल के लक्षण क्या हैं -

  • चिड़चिड़ापन

  • लगातार चिंता

  • नींद न आने की समस्या

  • क्रोध और क्रोध का प्रकोप

  • चीजों को याद रखने में कठिनाई

  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई

  • तेज़ ड्राइविंग या बहुत अधिक शराब पीना


Related Full Form in Hindi