SIDBI Full Form in Hindi




SIDBI Full Form in Hindi, SIDBI का Full Form क्या है, SIDBI क्या होता है, सिडबी क्या है, SIDBI का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालो के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

SIDBI Full Form in Hindi - सिडबी क्या होता है

SIDBI की फुल फॉर्म Small Industries Development Bank of India होती है. यह भारत मे एक स्वतंत्र वित्तीय संस्थान है जो सूक्ष्म, लघु और मध्यम पैमाने के उद्यमो MSMEs के विकास और विकास के लिए स्थापित किया गया है. यह भारतीय कंपनी अधिनियम 1956 के तहत 2 अप्रैल 1990 को IDBI की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के रूप मे स्थापित किया गया था. अक्टूबर 2017 तक मोहम्मद मुस्तफा SIDBI के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक है.

इसका Vision MSMEs क्षेत्र की वित्तीय और विकासात्मक जरूरतो को पूरा करने के लिए एक मंच है जो वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए और इसे प्रतिष्ठित और ग्राहक-अनुकूल वित्तीय संस्थान बनने मे मदद करने के लिए है. इसका लक्ष्य MSMEs को Credit Flow की सुविधा प्रदान करना और MSMEs मे वित्तीय और विकासात्मक अंतराल से निपटना होता है.

SIDBI ने MSME क्षेत्र को बढ़ावा देने और विकसित करने के लिए Credit Plus Approach को अपनाया है. इस Approach के तहत Credit के अलावा यह Enterprise Development, Cluster Development, Skill up-gradation, Marketing Support और Technology Modernization इत्यादि का भी समर्थन करता है. इसके व्यापार Domain मे Micro, Small और Medium Enterprises MSME शामिल है. ये उद्यम उत्पादन, निर्यात और रोजगार के मामले मे राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था मे महत्वपूर्ण योगदान करते है.

Functions of SIDBI

  • SIDBI निजी संस्थानों के बिलों में छूट और पुनर्खरीद भी देता है.

  • SIDBI समान कार्य करने वाले अन्य संगठनों को वित्तीय रूप से समर्थन करता है.

  • SIDBI अतिरिक्त सेवाओं जैसे पट्टे, फैक्टरिंग आदि के साथ छोटे पैमाने की इकाइयाँ प्रदान करता है.

  • SIDBI छोटे उद्योगों को उच्च दक्षता और बेहतर उत्पादों के लिए अपनी तकनीक का आधुनिकीकरण करने में मदद करता है

  • SIDBI क्रेडिट प्रदान करने के अलावा इन लघु उद्योगों को विकास और संवर्धन गतिविधियों के लिए समर्थन भी प्रदान करता है.

  • SIDBI यह सुनिश्चित करने के लिए कि इन लघु उद्योगों के पास हमेशा पर्याप्त कार्यशील पूंजी है, ऋण का समय पर प्रवाह सुनिश्चित करता है.

  • SIDBI विशेष रूप से संगठनों जैसे कि शुरुआती, निधि, अग्रिम, आदि के साथ महिला उद्योग निधि, राष्ट्रीय इक्विटी फंड आदि प्रदान करता है

  • SIDBI घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपने उत्पादों के लिए अपने बाजार का विस्तार करने के लिए एमएसएमई क्षेत्र को सहायता प्रदान करता है

  • SIDBI ऐसे ऋणों को पुनर्वित्त करता है जब कोई निजी बैंक या संस्थान व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए छोटी इकाइयों को ऋण या अग्रिम प्रदान करता है.

  • SIDBI ने एमएसएमई क्षेत्र के विकास के लिए समग्र दृष्टिकोण को सक्षम करने के लिए बैंकों, सरकारी निकायों अन्य अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों आदि के साथ व्यवस्था की है.

SIDBI पर संक्षिप्त टिपण्णी

SIDBI को सबसे पहले पूरे संस्थान को विशेष रूप से MSME क्षेत्र की मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिनकी अपनी विशिष्ट ऋण आवश्यकताएं होती हैं. इसलिए SIDBI यह सुनिश्चित करता है कि इन व्यवसायों को सही फंडिंग मिले. इन ऋणों को संगठन और उसके कारोबारी माहौल के आकार के अनुरूप बनाया जाता है.

SIDBI का आज के समय में उत्पादन, रोजगार और निर्यात के मामले में और राष्ट्रीय Economy में महत्वपूर्ण योगदान हैं. MSME Sector Indian Economy का एक महत्वपूर्ण आधार रहा है क्योंकि यह 5.1 करोड़ Units के Huge Network के साथ Indian Economy के Development के लिए काफी हद तक मददगार साबित हुआ है.

  • SIDBI का GDP में योगदान 37% है.

  • SIDBI का आज के समय में उत्पादन में 45% होता है.

  • SIDBI के जरिये अभी तक लगभग 11.7 करोड़ रोजगार पैदा हुए हैं.

  • SIDBI बैंक का Manufacturing Output में लगभग 45% का योगदान है.

  • SIDBI के द्वारा 6000 से अधिक उत्पादों का निर्माण आज के समय में किया जा रहा है.


Related Full Form in Hindi