URL Full Form in Hindi




URL Full Form in Hindi, URL क्या है, URL किसे कहते है, यूआरएल की फुल फॉर्म क्या है, URL का क्या मतलब है, URL का उपयोग क्या होता है, URL का उपयोग कहाँ होता है URL का पूरा नाम और हिंदी मे क्या अर्थ होता है, ऐसे सभी सवालों के जबाब आपको इस Post में मिल जायेंगे.

URL Full Form in Hindi – URL क्या होता है

URL की फुल फॉर्म Uniform Resource Locator होती है. URL किसी Website या Website के Page को Represent करता है यह आपको किसी Web Page तक ले जाता है. URL तीन चीजो से मिलकर बना होता है.

  • Protocol

  • Domain Name

  • Domain Code

पहला भाग HTTP यानि Hypertext Transfer Protocol होता है जो Protocol होते है. जिसकी मदद से Internet पर Data Transfer होता है फिर दूसरा भाग होता है Domain Name जो कि किसी Particular Website का पता होता है जैसे मेरी Website का नाम है Tutorialsroot तो यह भी एक Domain है फिर तीसरा भाग है Domain Code होता है जो यह दर्शाता है कि Website किस प्रकार की है जैसे मेरी Website का Domain Code है .com जो किसी Commercial Website को दर्शाता है. और इसी तरह से और भी Domain Codes होते है जिनके नाम आप नीचे देख सकते है.

  • .gov – Government

  • .org – Organization

  • .edu – Educational

  • .net – Network

  • .mil – Military

  • .in – India

URL कैसे काम करता है

Internet पर हर Website का एक IP Address होता है जो Numerical होता है जैसे www.google.com का IP Address 64.233.167.99 है तो जैसे ही हम अपने Browser मे किसी Website का URL Type करते हैं. तब हमारा Browser उस URL को DNS की मदद से उस Domain के IP Address मे बदल देता है. और उस Website तक पहुच जाता है जो हमने Search की थी. शुरुवात मे Direct IP से ही किसी Website को Access किया जाता था. लेकिन यह एक बहुत कठिन तरीका था. क्योंकि इतने लम्बे Number को तो कोई याद रख पाना बहुत मुश्किल था. इसलिये बाद मे DNS नाम बनाये गए जिस से हम किसी भी Website का नाम आसानी से याद रखा जा सकता है.

Structure of a URL

किसी URL को अलग-अलग खंडों में तोड़ा जा सकता है, एक दूरस्थ फ़ाइल को एक्सेस करते समय एक विशिष्ट उद्देश्य से सेवा करने वाला प्रत्येक टुकड़ा है. HTTP और FTP URL को प्रोटोकॉल के समान ही संरचित किया गया है : // hostname / fileinfo उदाहरण के लिए अपने URL के साथ एक एफ़टीपी फ़ाइल तक पहुँचना कुछ इस तरह लग सकता है.

HTTP के बजाय एफ़टीपी रखने से अलग, किसी भी अन्य URL जैसा दिखता है, जिसका आप वेब पर सामना कर सकते हैं.

अन्य योजनाएं उपलब्ध हैं और आप अपनी आवश्यकता के आधार पर उनमें से किसी एक का उपयोग कर सकते हैं

Sr.No Scheme & Description
1

http://

हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (एचटीटीपी) का उपयोग वेब सर्वर से पृष्ठों का अनुरोध करने और उन्हें वेब सर्वर से ब्राउज़र में वापस भेजने के लिए किया जाता है.

2

https://

सुरक्षित हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (HTTPS) एक डिजिटल प्रमाणपत्र का उपयोग करके ब्राउज़र और वेब सर्वर के बीच भेजे गए डेटा को एन्क्रिप्ट करता है.

3

ftp://

फ़ाइल ट्रान्सफर प्रोटोकॉल वेब पर फ़ाइलों को ट्रान्सफर करने के लिए एक और तरीका है. जबकि HTTP ब्राउज़रों के साथ एकीकरण के कारण वेब साइटों को देखने के लिए बहुत अधिक लोकप्रिय है, फिर भी FTP का उपयोग आमतौर पर वेब पर बड़ी फ़ाइलों को ट्रान्सफर करने और अपने वेब सर्वर पर स्रोत फ़ाइलों को अपलोड करने के लिए किया जाता है.

4

file://

यह Indicate करने के लिए उपयोग किया जाता है कि एक फ़ाइल स्थानीय हार्ड डिस्क या लैन पर एक साझा निर्देशिका पर है.

URL का इतिहास

आज के समय में URL इंटरनेट के रूप में सर्वव्यापी के रूप में हमारी कंप्यूटर शब्दावली का एक सामान्य हिस्सा बन गया है. लेकिन ऐसा हमेशा नहीं होता था.

ARPANET को 1960 के दशक के अंत में पेश किया गया था. यह टीसीपी / आईपी को लागू करने वाला पहला कंप्यूटर नेटवर्क था और इंटरनेट का आधार बन गया. इसके साथ नेटवर्क के माध्यम से कंप्यूटर के बीच फाइलों और Documents को Move करना संभव था. दुर्भाग्य से उन Documents तक पहुंच के लिए कई अलग-अलग प्रोटोकॉलों में से किसी एक की आवश्यकता हो सकती है. क्या जरूरत थी एक एकीकृत सिद्धांत जो फाइलों और Documents को आसानी से लिंक करने, पहचानने और मांग पर पुन प्राप्त करने की अनुमति देगा.

ARPANET 1970 के मध्य में अंतर्राष्ट्रीय हो गया इस प्रकार यह इंटरनेट बन गया लेकिन व्यवस्था जस की तस बनी रही. 1990 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट के शीर्ष पर वेब का निर्माण किया गया था. इससे Documents को एक दूसरे को ढूंढना और लिंक करना आसान हो गया. वेब के तीन मूलभूत निर्माण खंड थे एचटीटीपी प्रोटोकॉल, एचटीएमएल और यूआरएल.

HTTP हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल के लिए एक संक्षिप्त नाम है यह Documents भेजने और प्राप्त करने की एक विधि है. HTML निश्चित रूप से, हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज है, जो कंप्यूटर स्क्रीन पर टेक्स्ट आधारित Documents को प्रदान करने की अनुमति देता है और URL यह वर्णन करने का एक Relevant तरीका है कि एक Documents कहाँ है और इसे कैसे वितरित किया जाना चाहिए.


Related Full Form in Hindi