HTML in Hindi Tutorial




HTML को हम Hypertext Markup Language कहते है. HTML एक कंप्यूटर की भाषा है जिसका उपयोग वेबसाइट बनाने मे किया जाता है. ये भाषा कंप्यूटर की अन्य भाषा जैसे C, C++, JAVA आदि के मुकाबले बहुत ही Simple होती है. HTML की मदद से वेबसाइट बन जाने के बाद उस वेबसाइट को दुनिया का कोई भी व्यक्ति इंटरनेट के जरिये देख सकता है. HTML की खोज Physicist Tim Berners-Lee ने सन 1980 में Geneva मे की थी. HTML एक Platform-independent Language है जिसका उपयोग किसी भी Platform मे किया जा सकता है जैसे Windows, Linux, Macintosh इत्यादि.

HTML विभिन्न प्रकार के Tag और Attributes का उपयोग करके एक Web Document के Structure और Layout को Define करती है. HTML Files जो Webpage को Produce करती है यह केवल .html या .htm File Extensions वाले Text Documents मे उपयोग की जाती है. 1991 के अंत में प्रारंभिक परिचय के बाद से HTML मे कई Changes हुए है.

HTML मूल रूप से Scientific Documents का Actual रूप से वर्णन करने के लिए एक Language के रूप में तैयार की गई थी. हालांकि कई वर्षों से इसका सामान्य Design और Adaptations ने इसे कई अन्य प्रकार के Documents का वर्णन करने के लिए उपयोग किया है. लेकिन ये Hypertext Markup Language है क्या आइए, इसे भी जानते है.

Hypertext

Hypertext वह तरीका है जिसके द्वारा Web को Explore किया जाता है. यह एक साधारण Text ही होता है. लेकिन Hypertext अपने साथ किसी अन्य Text को जोड़े रखता है जिसे Mouse Click, Touch से या Key Press द्वारा सक्रिय किया जाता है. इसकी यही विशेषता इसे साधारण Text से अलग करती है. Hypertext को Hyperlink कहते है.

Markup

HTML Web Document बनाने के लिए HTML Tags का उपयोग करती है. प्रत्येक HTML Tag अपने बीच आने वाले Text को किसी प्रकार में परिभाषित करता है. इसे ही Markup कहते है. <i> एक HTML Tag है जो अपने बीच आने वाले Text को तिरछा italic करता है. इसे एक उदाहरण से समझते है. हम एक शब्द लेते है TutorialRoot जिसे साधारण लिखा गया है जो हमें आम text की तरह ही सीधा TutorialRoot दिखाई दे रहा है. अब हम इसे HTML के द्वारा Markup करते है. और Markup मे हम इसे तिरछा करते है. जब TutorialRoot को इन दोनो चिन्हों <i> </i> के बीच इस तरह TutorialRoot लिखा जायगा तो यह शब्द इस तरह तिरछा TutorialRoot दिखाई देगा. अर्थात इसे तिरछा italic Markup किया गया है.

Language

HTML एक Language है क्योंकि यह Web Document बनाने के लिए Code Words का उपयोग करती है. जिन्हे Tags कहते है. इन Tags को लिखने के लिए HTML का Syntax भी है. इसलिए यह एक Language भी है. HTML Syntax के तीन संभावित भाग होते है जो क्रमश Element, Tags और Text है. HTML Element HTML Tag से मिलकर बनता है. Angel Bracket के बीच जो शब्द या अक्षर लिखा होता है इसे HTML Tag कहते है यह दो प्रकार का होता है. पहला Opening Tag और दूसरा Closing Tag. और अंतिम भाग होता है Text जो HTML Tag के बीच लिखा जाता है.

HTML Versions

HTML के बहुत से Version Industry मे आ चुके है. HTML के हर Version मे कुछ नए Elements Add किये जाते है. HTML के सभी Versions के बारे मे नीचे विस्तार से बताया जा रहा है. ये सभी Versions HTML के इतिहास और समय के साथ किये गए सुधार को दर्शाते है.

  • HTML 1.0 − यह HTML का Barebones Version था और यह Language मे सबसे पहले Release हुआ था.

  • HTML 2.0 − यह Version 1995 मे पेश किया गया था और इसे धीरे-धीरे अतिरिक्त क्षमताओं को शामिल करने के लिए विकसित किया गया है form-based File Upload, Tables, Client-side Image Maps और Internationalization मे उपयोग किया जाता है.

  • HTML 3.2 − यह World Wide Web के मानकों के विकास को सुनिश्चित करने के प्रयास मे World Wide Web Consortium (W3C) 1994 मे Tim Berners-Lee द्वारा स्थापित किया गया था. 1997 तक उन्होंने HTML 3.2 को Published किया था.

  • HTML 4.0 − यह बाद मे 1997 मे W3C ने HTML 4.0 Released किया यह एक ऐसा Edition है जो कई Browser-specific Elements प्रकारो और Attributes को अपनाया गया है.

  • HTML 4.01 − यह दिसंबर 1999 मे HTML 4.01 मे Released किया गया था.